Bhajan Kyu Hai Jaruri – भजन क्यों है जरूरी

Bhajan जो आपको ईश्वर के गुणों की तरफ ध्यान दिलाएं Bhajan वह है जो आपके चिंता और तनाव को दूर करके आप को शांति प्रदान करें। यदि आप Bhajan का चुनाव अच्छी प्रकार से करें तो आपका दिन बहुत ही अच्छा बन सकता है।

Bhajan की ताकत

Bhajan Kyu Hai Jaruri - भजन क्यों है

Bhajan में वह ताकत है जो हारे हुए मनुष्य को भी जीतने की प्रेरणा दे देता है। आज मनुष्य भागदौड़ भरी जिंदगी में जी रहा है आज वह कहता है कि मेरे पास अधिक समय नहीं है किसी भी कार्य को करने के लिए।

यदि उसे krishna bhajan का नाम लेना पड़े या Shiv का नाम लेना पड़े या Mata का नाम लेना पड़े या shyam hanuman guruji ram ganesh का नाम देना पड़े तो वह जल्दी-जल्दी इन सभी का नाम लेकर अपने कार्य पर निकल जाता है।

Bhajan आज का मनुष्य स्वार्थी हो गया है

आज का मनुष्य इतना स्वार्थी हो गया है कि वह सोचता भी नहीं है कि तुम जो कार्य कर रहे हो क्या यह कार्य ईश्वर को पसंद आएगा क्या तुम जो यह कार्य कर रहे हो छल कपट का जो कार्य कर रहे हो क्या यह ईश्वर को अच्छा लगेगा।

जब आपका कार्य ईश्वर के सिद्धांतों के विरुद्ध है तो भला आप कैसे भजनों को सुन कर अपने मन को कुछ देर के लिए शांत कर पाते हैं। भला ऐसी शांति का फायदा क्या है जो अगले ही पल क्लेश का कारण बन जाए।

सच्चे मन से बनिए इश्वर Bhajan भक्त

यदि आप सच में सच्चा ईश्वर भक्त बनना चाहते हैं तो आपको तो यह जानना पड़ेगा कि ईश्वर है क्या ईश्वर रहता का है ईश्वर करता क्या है।

दोस्तों ईश्वर इस पूरे ब्रह्मांड में कण-कण में रहता है। ईश्वर वह ताकत है जो इस ब्रह्मांड को सृष्टि को रचता है और फिर इसका विनाश भी कर देता है। ईश्वर इस संसार को इसलिए रचता है ताकि पूर्व काल के संसार में जो जीवात्मा मुक्ति में जाने से रह गई थी वह इस काल में मुक्ति को प्राप्त हो सके।

परंतु इस काल के मनुष्य तो अपने ही छल कपट और स्वार्थ में घुसे जा रहे हैं। फिर आप ईश्वर का नाम लेते हैं तो भला उससे लाभ क्या जब आप अपना स्वार्थ अपना छल कपट अपनी घृणा खत्म ही नहीं कर पाते हैं।

क्या इश्वर स्वर्थ पूर्ति का साधन है?

दुनिया में अनेकों करोड़ों ऐसे मनुष्य है जो कि ईश्वर के आगे माथा भी टेकते हैं ताकि उनकी कुछ स्वार्थ पूर्ति हो सके वह ईश्वर से धन दौलत मांगते हैं अच्छा शरीर मानते हैं सब कुछ मानते हैं लेकिन कभी भी खुद दूसरे मनुष्य के लिए अच्छा कार्य नहीं करते। तो क्या ऐसे स्वार्थी मनुष्य का कुछ भला हो सकता है कदापि नहीं।

दोस्तों ध्यान आपको और हमें रोज ध्यान करना चाहिए ईश्वर के गुणों को ध्यान में रखकर हम यदि ध्यान करें तो हमें सफलता जल्दी मिलती है और हम अपने राग द्वेष दूर कर पाते हैं जिसके कारण हम किसी दंड के भागी नहीं बनते हैं और हमारा भी भला होता है हमारे साथ में रहने वालों का भी भला होता है हमें जो जानता है हम जिस से मिलते हैं उनका भी भला हम करने का प्रयास करते हैं।

आप खुद सोचिए आप करोड़ों रुपया कमा रहे हैं परंतु यह करोड़ों रुपए यदि किसी के लाभ में काम ना आए तो इन करोड़ों रुपए का फायदा क्या है फिर आपका ईश्वर का ध्यान करने का लाभ भला क्या हुआ। क्या आपने कभी सोचा है यह करोड़ों रुपए आपके बैंक में बड़े-बड़े ऐसे ही सड़ जाएंगे। और एक दिन आप ऐसे ही इस संसार को छोड़कर कहीं दूर पहुंच जाएंगे।

यदि आप सच में किसी का भला करना चाहते हैं तो जो धन आप कमाते हैं उसमें से लोगों के भले के लिए पशुओं के भले के लिए जरूर लगाया कीजिए और अग्निहोत्र हवन जरूर से जरूर आपको करना चाहिए तभी तो आप को संपूर्ण सफलता मिलेगी और आपका धन कमाने का जो मकसद है वह पूरा अवश्य ही होगा यदि उसमें सात्विकता है तो।

क्या आज इस संसार में कोई ऐसा मनुष्य है जो बिना स्वार्थ के कार्यकर्ता हो

दोस्तों सबसे मुख्य बात आप जो कार्य करते हैं क्या आपको बिना स्वार्थ के करते हैं क्या आपका स्वार्थ नहीं स्वार्थ भी कई प्रकार का हो सकता है वैसे हम यहां दो प्रकार के स्वार्थ को लेते हैं जो आप अपने निज के लिए सोचते हैं और उसमें दूसरों का भी अहित कर देते हैं।

दूसरा स्वार्थ जिसमें आप दूसरों के हित के लिए सोचते हैं और आप कभी भी किसी का अहित नहीं करते हैं तो यह स्वार्थ सबसे अच्छा हुआ इसमें आप दूसरों की मदद करते हैं किसी के साथ में छल कपट नहीं करते हैं तभी तो आपका इस बार का भजन करने का फायदा होगा।

क्या आप सचमे इश्वर BHAJAN करते है

दोस्तों यदि आप सच में ईश्वर का भजन सच्चे दिल से करना चाहते हैं तो आपको यह बात अच्छे से गांठ बांध लेनी चाहिए कि भजन करने का तभी आपको लाभ मिलेगा जब आप मनुष्य पशु इस प्रकृति इस धरती की भलाई के कार्य करेंगे और संसार को खुशहाल और सुखी बनाने का कार्य करेंगे सदैव ही धर्म के कार्य करेंगे और सभी को सुखी बनाने की सोचेंगे तभी आपका जीवन सफल होगा तभी आप आगे बढ़ पाएंगे।

और साथ में ईश्वर का ध्यान अवश्य ही आप करेंगे तभी आप मोक्ष की तरफ आगे बढ़ पाएंगे मुक्ति की तरफ आप आगे बढ़ पाएंगे और तभी आपके ईश्वर का गुणगान करने का पूरा पूरा लाभ आपको मिल पाएगा।

दोस्तों कमेंट में आप अपने सुझाव हमें जरूर से जरूर दीजिएगा कमेंट में बताइए कि यह लेख आपको कैसा लगा और इस लेख से आपको क्या-क्या सीखने को मिला है। हमें उम्मीद है कि आप फिर से इस वेबसाइट पर आएंगे और यहां पर ज्ञानवर्धक लेख को पढ़कर अपना ज्ञान जरूर बढ़ाएंगे।

Leave a comment